Monday, January 10, 2011

कोशिश करने वालों की (Koshish Karne Waalon Ki) - हरिवंश राय 'बच्चन' (Harivansh Rai 'Bachchan')

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,
चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है।
मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है।
आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है,
जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है।
मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में,
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में।
मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो,
क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो।
जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,
संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम।
कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

10 comments:

  1. very motivational poem by Shri Bachchan Sahab

    ReplyDelete
  2. Bilkul. Please suggest more poems for the blog.

    ReplyDelete
  3. thanks bacchan ji jo aapne ye kavita likhi
    its very motive full poetry
    thanks again..........

    ReplyDelete
  4. Beautiful...but Not harivansh Rai bachan's work...his style is not this.
    forgot the original author...may be have to google it

    ReplyDelete
  5. Beautiful...but Not harivansh Rai bachan's work...his style is not this.
    forgot the original author...may be have to google it

    ReplyDelete
  6. Beautiful...but Not harivansh Rai bachan's work...his style is not this.
    forgot the original author...may be have to google it

    ReplyDelete
  7. Beautiful...but Not harivansh Rai bachan's work...his style is not this.
    forgot the original author...may be have to google it

    ReplyDelete